कार्यशाला - परिभाषा,महत्त्व,उद्देश्य Workshop - Definition, Importance, Purpose - समाज कार्य शिक्षा

समाज कार्य शिक्षा

Post Top Ad

Post Top Ad

Saturday, 9 November 2019

कार्यशाला - परिभाषा,महत्त्व,उद्देश्य Workshop - Definition, Importance, Purpose

कार्यशाला का महत्व
परिचय – कार्यशाला दैनिक शिक्षा कौशल और नवीन कार्यशाला,शिक्षण,कौशल के नए तरीकों , शिक्षित कामकाज़ और शिक्षण का व्यापक ढंग और रचनात्मक कौशल प्रदान करती है| कार्यशाला स्वयं सीखने,चार्ट,कॉमिक्स, पुस्तकों आदि के प्रयोग के लिए आवश्यक है|कार्यशाला शिक्षा की दिशा बदलने से मन शैक्षिक, प्रशासकों, शिक्षकों, अभिभावकों, शिक्षकों, आदि की जरूरत उच्च प्राथमिक स्तर पर व्यावसायिक शिक्षा, स्वरोजगार और रोजगार सृजन के लिए शिक्षा की कार्यक्षमता के लिए महत्वपूर्ण है|

सामग्री – कार्यशाला में सिखाई गई शिक्षण तकनीक के लिए कठिन परिश्रम करना पड़ता है परंतु जीवन में सफलता के लिए यह महत्वपूर्ण है, उदाहरण के लिए – सबसे अच्छा अध्ययन कैसे करें?निराशाजनक चुनौतियों का सामान कैसे करें और लोगों के बीच पेश कैसे करें? कार्यशाला में सिखाई गई गतिविधियाँ जैसे mind mapping,टाइम लाइन, journal writing, प्रकृति अवलोकन द्वारा  स्वयं व दूसरों की अवलोकन क्षमता को सहज़ रूप से समझने में सहायता प्रदान करती है|
 अमूर्त – लेखन कार्यशाला एक प्रभावशाली दृष्टिकोण है जो शिक्षण लेखन को एक छात्र के रूप में सीखने और उसके अभ्यास के महत्व और उसके लेखन का संपादन करती है| यह हमारी कार्यप्रणाली को प्रभावशाली ढंग से लागू करने में मदद करती है, इसलिए इस गतिविधि का उद्देश्य लेखन प्रणाली को सुधारना और छात्र को एक स्वतंत्र लेखन बनाना है|
कार्यशाला का उद्देश्य :-
  • लेख लिखने की प्रक्रिया के प्रबंधन में मदद करने के लिए यथार्थवादी लेखन योजना|
  • पत्रिका में संशोधन लेखन के लेखन के लिए चयन|
  • अच्छा सार लिखना|
  • पत्रिका प्रकाशन की प्रक्रिया को तोड़ना|
कार्यशाला का अवलोकन :-
  • लेखन लिखने की प्रक्रिया की शुरुआत और 12 सप्ताह की योजना|
  • लेखन योजना तैयार करना|
  • अपने लेख की शुरुआत करना और लेख संरचना की पुष्टि करना|
  • सार लिखना और मज़बूत तर्क बनाना|
  • पत्रिका और पत्रिका की समीक्षा प्रक्रिया का चयन|
  • ग्रहण करना और प्रतिक्रिया करना|

निष्कर्ष :- कार्यशाला में की गई क्रियाओं द्वारा कौशलों का विकास किया जाता है|कार्यशाला मानसिक स्तर के विकास में सहयोग करती है| यह अवलोकन क्षमता को विकसित कर परिस्थियों के अनुकूल निर्णय लेने की क्षमता का विकास करती है|कार्यशाला के द्वारा शिक्षण के प्रति रुझाव बढ़ जाता है|

No comments:

Post a comment

Post Top Ad