संस्कृत के संयुक्त व्यंजन और उदाहरण - समाज कार्य शिक्षा

समाज कार्य शिक्षा

Post Top Ad

Post Top Ad

Tuesday, 3 December 2019

संस्कृत के संयुक्त व्यंजन और उदाहरण


संयुक्त व्यंजन-

जब दो व्यंजन वर्णों के बीच में स्वर वर्ण न रहे तब उन्हें संयक्त व्यं
कहते हैं। प्रमुख संयुक्त व्यंजन निम्नलिखित हैं
(१) क्ष - क् + ष् अ
(२) त् = + र् + अ

(३) ज्ञ - ज् + अ + अ
(४) द्य = द् + य् + अ
(५) श्री = श् + र् + ई
(६) श+ ऋ

(७) प्र = प् + र् + अ
(८) क् = क् + त् + अ
(९) त् = त् + त् + अ
(१०)द्ध = द् + ध् + अ

वर्ण संयोजन-वर्णों को मिलाकर शब्द के रूप में लिखने के कार्य को वर्ण संयोजन कहते
हैं । जैसे।

(१) क् + ष् + अ + + + इ + य् + अ = क्षत्रियः
(२)क् + अ + क् + ष् + अ = कक्षा
(३) + इ + + + अ + न् + अ = विज्ञान:
(४) उ+ द् + य् + ओ + ग् + अः = उद्योग
(५)श् , २ + ई + म् + आ + न् = श्रीमान्
(६)श + ऋ + ग् + आ + ल्+ अः = शृगालः
(७) प् + र + आ + हा +र + अः = प्रहार
(८) उ + क + त् + अ = उक्तः ।।
(९) त् + + ए + म् अ: 3 प्रेम
(१०) प् + र् + अ + स् + इ + द् + ध्+ अ: = प्रसिद्धः

वर्ण विश्लेषण- शब्द में प्रयोग की गयी ध्वनियों को अलग-अलग लिखने के कार्य क
वर्ण विश्लेषण कहते हैं। जैसे

(१) निर्माण = = + इ + + म् + ण + अः
(२) कर्तुम् = क + र् + त् + अ + म्
(३) वैज्ञानिक = व + ऐ + इ + ज् + आ + म् + इ + क् + अ:

No comments:

Post a comment

Post Top Ad