पाणिनि के 14 माहेश्वर सूत्र और प्रत्याहार बनाने की विधि - समाज कार्य शिक्षा

समाज कार्य शिक्षा

Post Top Ad

Post Top Ad

Tuesday, 3 December 2019

पाणिनि के 14 माहेश्वर सूत्र और प्रत्याहार बनाने की विधि




आचार्य पाणिनि के १४ सूत्रों के आधार पर प्रत्याहार की रचना की जाती हैं

प्रत्याहार में दो वर्ण होते हैं । अन्तिम वर्ण किसी-न-किसी पाणिनि सुत्र का अंतिम हल् वर्ण होता है और प्रथम वर्ण उस हल् वर्ण से पूर्व कहीं-कहीं मौजूद रहता है । प्रथम वर्ण हलु-वर्ण नहीं होता और प्रथम वर्ण से लेकर अन्तम हलु-वर्ण के बीच आने वाले वर्ण प्रत्याहार में आते हैं । हल्-वर्णों को प्रत्याहार में नहीं गिना जाता । 

पाणिनि के १४ सूत्र निम्नलिखित हैं-

१. अइउण् २. ऋलूक्३. एओङ्, ४. ऐऔच् ५. हयवरट् ६. लण् ७. अमङणनम् ८. झभञ् ९. घढधष् १०. जबगडदश् ११. खफछठथ चटतव १२. कपय् १३. शषसर् १४. हल्।।

प्रत्याहार-

कुछ उदाहरण-

अक्-

अ इ उ ऋ लृ क् । प्रथम सूत्र के प्रारम्भ में '' है और द्वितीय सूत्र के अन्त
में हु के ही । इन दोनों के बीच के अक्षर अक् प्रत्याहार के अन्दर आते हैं।

अच् -

अ इ उ ऋ लृ ए ओ ऐ औ ।

इक् -

इ उ ऋ लृ ।

यण-

य व र ल ।

शल्-

श प स ह ।

जशु -

ज ब ग ड द ।

इसी प्रकार निम्नलिखित प्रत्याहार बनेंगे-


लट्, अण्, इण्, इक्, एड, एच, चर्, गम्, चर्, वस्, झञ्, झर्, झल्, जश्, इषु
यञ्, शर, हस्, चल्, आदि ४२ प्रत्याहार हैं ।

उच्चारण स्थान-हृदय से निकली हुई प्राणवायु हमारे मुख में उपस्थित ध्वनि-यन्त्रों (कण्ठ, तालुओष्ठ आदि) से टकराती है और विभिन्न ध्वनियों की सृष्टि करती है 

'बि स्थान को यह प्राणवायु स्पर्श करती है; वही वर्ण-विशेष का उच्चारण स्थान है- ये निम्नलिखित हैं-

क-


घ-

च-

छ-


झ-

कण्ठ्य हैं।

अकुहविसर्जनीयानां आ, कवर्ग और विसर्ग का है । इचुयशानां तालु-इ, चवर्ग, य और श का तालु स्थान है । ये तालव्य ऋटुरषाणां मूर्धा-ऋ, र और प का ये मूर्धन्य दन्ताः ल, तवर्ग, ल और स का स्थान है। ये दन्त्य हैं । उपध्मानीय अर्थात फ का ओष्ठ-स्थान हैं। ये ओष्ठ्य हैं। नासिका म, , ण और न का नासिका स्थान है । अत: ये अनुनासिक
वर्ण हैं।

एदैतो:कण्ठ-तालु-ए और ऐ का कण्ठ-तालु स्थान
ओदो कण्ठोष्ठम्-ओ और औ का कंठ-ओष्ठ्य स्थान
वकारस्य दन्त्योष्ठम्-व का दन्त-ओष्ठ स्थान है ।

No comments:

Post a comment

Post Top Ad